नहीं मान रहा उत्तर कोरिया, फिर किया मिसाइल परीक्षण

अंतरराष्ट्रीय समुदाय की चेतावनियों से बेपरवाह उत्तर कोरिया ने सोमवार को फिर बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण किया है। स्कड श्रेणी की मानी जा रही यह मिसाइल छह मिनट की उड़ान में करीब 450 किमी की दूरी तय करने के बाद जापान के समुद्री क्षेत्र में जा गिरी।

दक्षिण कोरियाई अधिकारियों का कहना है कि नई मिसाइल स्कड-क्लास की बैलिस्टिक मिसाइल लगती है। मध्यम दूरी तक मारने में सक्षम यह 120 किमी की ऊंचाई तक गई। उत्तर कोरिया के पास मध्यम दूरी तक मार करने वाली स्कड मिसाइलों की बड़ी खेप है। इन्हें मूल रूप से सोवियत संघ ने विकसित किया था। लगातार मिसाइलों का परीक्षण करते जा रहे प्योंगयांग की मंशा अमेरिका तक मार करने वाली आइआरबीएम (इंटरमीडिएट रेंज बैलिस्टिक मिसाइल) बनाने की है।

यह भी पढ़ें : नासा की इस तकनीक से सुरक्षित उतरेंगे ड्रोन

उसने नया मिसाइल परीक्षण ऐसे समय किया जब इसी शुक्रवार को जी-7 शिखर सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया को बड़ी समस्या करार दिया था। उन्होंने कहा था कि इसका हल किया जाएगा। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबी ने उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण की निंदा की और अमेरिका के साथ मिलकर ठोस कार्रवाई करने का वादा किया।

यह भी पढ़ें : अरुणाचल में बुनियादी ढांचे के निर्माण पर चीन ने चेताया

उन्होंने कहा, ‘हम उत्तर कोरिया के उकसावे वाले कदम को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। वह लगातर अंतरराष्ट्रीय समुदाय की चेतावनियों को नजरअंदाज कर रहा है। जी-7 में इस बात पर सहमति बनी कि उत्तर कोरियाई समस्या अंतरराष्ट्रीय समुदाय की शीर्ष प्राथमिकता में होगी। उस पर अंकुश लगाने के लिए हम अमेरिका के साथ मिलकर ठोस कार्रवाई करेंगे।’

तीन हफ्ते में तीसरा परीक्षण

उत्तर कोरिया ने संयुक्त राष्ट्र के नए प्रतिबंध लगाने की चेतावनी और अमेरिका की सैन्य कार्रवाई के खतरे के बावजूद तीन हफ्ते में तीसरी बार मिसाइल परीक्षण किया है। इस साल वह अब तक 12 बार मिसाइल परीक्षण कर चुका है।

वार्ता के लिए हालात बनाए प्योंगयांग

चीन ने सोमवार को उत्तर कोरिया से आग्रह किया कि वह मिसाइल परीक्षण के बाद वार्ता के अनुकूल हालात बनाए। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि इस समय कोरियाई प्रायद्वीप की स्थिति जटिल और संवेदनशील है। हम उम्मीद करते हैं कि सभी संबंधित पक्ष शांति और संयम रखेंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *