भारतीय मूल की बेटी ने IQ टेस्ट में आइंस्टीन को पीछे छोड़ा, 2 प्वाइंट ज्यादा मिले

नई दिल्ली.ब्रिटेन में रहने वाली भारतीय मूल की 12 साल की राजगौरी पवार का दिमाग साइंटिस्ट अलबर्ट आइंस्टीन और स्टीफन हॉकिंग से भी तेज निकला। दुनिया की सबसे बड़ी और पुरानी Mensa सोसाइटी के आईक्यू टेस्ट में यह बात सामने आई। बताया जाता है कि इसी टेस्ट में दोनों मशहूर साइंटिस्टों को 160 प्वाइंट मिले थे। राजगौरी को सोसायटी के मेंबर के तौर पर इनवाइट भी किया गया। दुनिया के सिर्फ 20 हजार लोग कामयाब हुए…
– राजगौरी के पिता सूरज पवार ब्रिटेन में डॉक्टर हैं। बेटी के अचीवमेंट पर उन्होंने कहा, ”बेटी के टीचर्स की कोशिशों के बिना यह मुमकिन नहीं है। राजगौरी को स्कूल से भी पूरा सपोर्ट मिला। 2011 में राजगौरी ने हैंडराइटिंग के लिए भी अवॉर्ड जीता था।”
– अप्रैल में मैनचेस्टर में ‘ब्रिटिशर मेन्सा आईक्यू टेस्ट’ में शामिल हुई राजगौरी ने 162 प्वाइंट्स हासिल किए। जो 18 साल से कम उम्र के लिए सबसे ज्यादा है। इस तरह उसने आइंस्टीन और हॉकिंग को पीछे छोड़ दिया और उसे 2 प्वाइंट्स ज्यादा मिले।
– Mensa सोसाइटी ने कहा है कि भारतीय मूल की इस लड़की का आईक्यू काफी अच्छा है। क्योंकि दुनियाभर में सिर्फ 20,000 लोग ही इतना स्कोर कर पाने में कामयाब रहे। अब राजगौरी को सोसाइटी में मेंबर बनाया गया है।
2016 में ध्रुव को मिले थे 162 प्वाइंट
– पिछले साल अगस्त में 10 साल के भारतीय लड़के ध्रुव ने आइंस्टीन और हॉकिंग का रिकॉर्ड तोड़ा था। लदंन में रहने वाला ध्रुव IQ टेस्ट में 162 प्वाइंट्स हासिल कर दुनिया के चुनिंदा लोगों में शामिल हुआ था।
– टेस्ट में ध्रुव ने 150 सवालों का सामना किया था। इस टेस्ट में एडल्ट के लिए मैक्सिमम स्कोर 161 और 18 से कम उम्र के बच्चों के लिए 162 है।
– दिसंबर, 2015 में अनुष्का विनय (10 साल) को भी इसी टेस्ट में 162 प्वाइंट मिले थे। उसके पिता ब्रिटेन में आईटी कंसल्टेंट हैं और केरल के रहने वाले हैं।
2011 में राजगौरी ने हैंडराइटिंग के लिए भी अवॉर्ड जीता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *