‘हमारी आंखों के सामने’ ढह रही है अफगानिस्तान की अर्थव्यवस्था: संयुक्त राष्ट्र

0
69

Image Source : AP REPRESENTATIONAL
संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि अफगानिस्तान का आर्थिक पतन ‘हमारी आंखों के सामने हो रहा है।

संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र में मानवीय मामलों के प्रमुख मार्टिन ग्रिफिथ्स ने कहा है कि अफगानिस्तान का आर्थिक पतन ‘हमारी आंखों के सामने हो रहा है।’ उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से इसे रोकने के लिए कार्रवाई करने का आग्रह किया। ग्रिफिथ्स में देश में शिक्षा के हालात पर भी चिंता जताते हुए कहा कि 40 लाख बच्चे स्कूल से बाहर हैं और 90 लाख बच्चे जल्द ही बाहर होंगे क्योंकि शिक्षकों को भुगतान नहीं किया गया है।

‘हम आर्थिक पतन को घातक रूप लेते हुए देख रहे हैं’

ग्रिफिथ्स ने गुरुवार को एक इंटरव्यू में कहा कि दान करने वाले देशों को इस पर सहमत होने की जरूरत है कि आपातकालीन मानवीय सहायता के अलावा उन्हें शिक्षा, अस्पतालों, बिजली सहित अफगान लोगों के लिए बुनियादी सेवाओं का समर्थन करने की आवश्यकता है और उन्हें उस अर्थव्यवस्था में नकदी डालने की जरूरत है जिसमें बैंकिंग प्रणाली “बहुत बुरी तरह से ठप” देखी गई है। उन्होंने कहा, ‘हम आर्थिक पतन को घातक रूप लेते हुए देख रहे हैं। यह स्थिति सप्ताह दर सप्ताह और गंभीर होती जा रही है।’

‘अग्रिम मोर्चा के कर्मचारियों को पैसा दिया जाना चाहिए’
ग्रिफिथ्स ने कहा कि नकदी प्रवाह के मुद्दे को वर्ष के अंत तक सुलझा लिया जाना चाहिए और सर्दियों के दौरान अग्रिम मोर्चा के सेवा कर्मचारियों को पैसा मुहैया कराया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि उन्हें अपने पहले के दृष्टिकोण में बदलाव लाना होगा कि अफगानिस्तान विशुद्ध मानवीय सहायता के आधार पर सर्दियां आराम से निकाल लेगा। एक उदाहरण के रूप में, उन्होंने कहा कि 40 लाख बच्चे स्कूल से बाहर हैं और 90 लाख बच्चे जल्द ही बाहर होंगे और वजह सीधी है कि अगस्त से 70 प्रतिशत शिक्षकों को भुगतान नहीं किया गया है।

मेरा संदेश आगाह करने के लिए है: ग्रिफिथ्स
ग्रिफिथ्स ने कहा, ‘और अगर हम ऐसा नहीं करते हैं, तो महिलाओं और लड़कियों के स्कूल जाने के अधिकार के बारे में जो चर्चा होती है वह सैद्धांतिक रह जाएगी। इसलिए, मेरा आज का संदेश आर्थिक पतन के मानवीय परिणामों की चेतावनी देना और तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता के बारे में आगाह करना है।’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here