हिमाचल के मंडी में पहाड़ दरकने से हादसा, मलबे में दबे 50 लोग, 8 की मौत

नैशनल हाइवे पर शनिवार रात को एक बड़ा हादसा हो गया। एन.एच. पर उरला- जोगिंद्रनगर के पास कोटकरूपी में रात के अंधेरे में पहाड़ी दरकी और अपने साथ यात्रियों से भरी दो बसों सहित कई अन्य वाहनों को भी ले गई। चंद सैकेंड में तबाही का जो भयावह मंंजर देखने को मिला, उसे बयां करना कठिन है।
मुख्यमंत्री वीरभद्र ‌सिंह ने कहा कि वे खुद मौके का जायजा लेने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सेना और पुलिस की टीमें रैस्कयू में लगी हुई हैं। प्रशासन की तरफ से हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए गए हैं। स्थानीय लोग भी रैस्कयू में मदद कर रहे हैं।

इस हादसे में कई और लोगों की जान जाने की आशंका है अभी तक 8 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। 50 के दबे होने की आशंका है। शनिवार रात दो बजे के करीब पहाड़ी से मलबा गिरा और कई वाहनों को अपने साथ दूर तक ले गया।

ये भी पढ़ें- जिले के तीन मुख्य एन.एच. पर भू-स्खलन से घंटो बाधित, थमी रफ्तार

बताया जा रहा है कि कोटकरूपी में दो बसें रात को चाय-पानी के लिए रुकी थीं। इसके अलावा कई और वाहन भी यहां पर खड़े थे। जैसे ही ऊपर से पहाड़ी दरकी दोनों बसों के अलावा वहां पर खड़े कई और वाहन भूस्खलन की चपेट में आ गए। एच.आर.टी.सी. की बसों में एक कटड़ा-मनाली रुट पर जा रही बस थी।

बस के चालक ने ऊपर से मलबा आता देखा और सवारियों को भागने को कहा। वहीं चम्बा से मनाली जा रही बस में हताहतों की संख्या अधिक हो सकती है। ये बस मलबे के साथ एन.एच. से 1 किलोमीटर नीचे बह गई है। इस बस में 45 सवारियां होने की आशंका है। इसके अलावा वहां आसपास खड़े कई और वाहन भी मलबे में दफन हो गए हैं।
मंडी प्रशासन की ओर से मंडी से कुल्लू तक के लिए इस एन.एच. को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। इसी बीच एक घंटे के लिए वाहन चलाने की अनुमति दी जाएगी।

इस मार्ग का सारा ट्रैफिक वाया कमाद- कोटला- कुल्लू कर दिया है। इसके अलावा इस मार्ग का सारा ट्रैफिक तीन रूटो जोगिंद्रनगर- घटासनी-झटींगरी- मंडी, जोगिंद्रनगर- धर्मपुर- कोटली- मंडी तथा जोगिंद्रनगर, नौली -पद्दर- मंडी कर दिया है।

उधर प्रशासन की ओर से हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है ये नंबर हैं 01905-226201, 202,203 इसके अलावा परिवहन निगम की ओर से भी हैल्पलाइन नंबर जारी किया है जो 01905235538 और मोबाइल नंबर 9418001051

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *