बठिंडा ब्लास्ट के बाद पंजाब में हाई अलर्ट, आरोप-प्रत्यारोप जारी

बठिंडा में विस्फोट की घटना के बाद पंजाब में हाई अलर्ट घोषित किया गया है.बठिंडा: पंजाब के बठिंडा में कांग्रेस के उम्मीदवार के चुनावी सभास्थल पर ब्लास्ट के बाद पंजाब में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है. धमाके में अब तक छह लोगों की मौत हो चुकी है और नौ लोगों घायल हैं. पुलिस हमले के पीछे आतंकी साजिश की आशंका जता रही है जबकि सियासी पार्टियां हालात के लिए एक-दूसरे को जिम्मेदार बता रही हैं.
पंजाब की चुनावी सियासत में ऐसी हिंसा लंबे अरसे बाद देखने को मिली है. डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख के समधी और बठिंडा के मौड़ से कांग्रेस उम्मीदवार हरमिंदर सिंह जस्सी पर मंगलवार को देर शाम कातिलाना हमला हुआ. इस दोहरे धमाके ने पंजाब में आतंकवाद के दौर की याद ताजा कर दी.
पुलिस फिलहाल यह जांच कर रही है कि धमाके के पीछे कौन है. हालांकि इससे किसी को इनकार नहीं कि यह आतंकी वारदात हो सकती है. पंजाब के पुलिस महानिदेशक सुरेश अरोड़ा ने मौके का जायजा लेने के बाद कहा,’ हम इसे रूल आउट नहीं कर सकते… यह हो सकता है..लेकिन फॉरेंसिक जांच की रिपोर्ट आने के बाद ही पक्के तौर पर कुछ कहा जा सकेगा.’
पिछले एक साल के दौरान सिलसिलेवार तरीके से पंजाब का माहौल बिगाड़ने की कोशिश हुई है.
लुधियाना – ४ अप्रैल : नामधारी संप्रदाय की गुरु माता चंद कौर की दिनदहाड़े हत्या
लुधियाना – २३ अप्रैल : शिव सेना पंजाब के अध्यक्ष दुर्गा गुप्ता की हत्या
मुल्लांपुर – १७ मई : सिख प्रचारक रणजीत सिंह ढड्रियांवाले पर कातिलाना हमला, बाबा-बाल बचे
जालंधर – ६ अगस्त : आरएसएस के प्रदेश उपाध्यक्ष जगदीश गगनेजा की हत्या
लुधियाना – १४ जनवरी : हिन्दू तख्त के अध्यक्ष अमित शर्मा की हत्या
इनमें से किसी भी मामले में पुलिस आरोपियों और साजिशकर्ताओं तक नहीं पहुंच पाई. आम आदमी पार्टी ने अकाली दल के अध्यक्ष और प्रदेश के गृह मंत्री सुखबीर बादल पर निशाना साधा है. आप नेता संजय सिंह ने कहा, ‘आज अपनी हार से घबराकर किसी भी घटना को सुखबीर बादल अंजाम दे सकता है. चुनाव आयोग अगर शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव करवाना चाहता है तो तत्काल सुखबीर बादल को गिरफ्तार कर पूछताछ की जाए..सारा सच सामने आ जाएगा.’
वहीं कांग्रेस आम आदमी पार्टी को कटघरे में खड़ा कर रही है. कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा,’ जब आप किसी स्टेट को डिस्टर्ब करते हो और ऐसी बात करते हो…तो यहां जो लोग बैठे हैं और लाहौर में भी हैं..वे लोग उठते हैं..और उन्हें सियासी संरक्षण चाहिए होता है जो केजरीवाल की पार्टी दे रही है.’
अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर बादल का कहना है कि अकाली दल को हराने के लिए कैप्टन अमरिंदर सिंह भी खालिस्तानियों से साथ मंच साझा करते रहे हैं और अब केजरीवाल भी वही गलती कर रहे हैं.
फिलहाल मौके की नजाकत को देखते हुए चुनाव आयोग ने पूरे पंजाब में हाई अलर्ट घोषित कर दिया है. चार फरवरी को मतदान वाले दिन खास चौकसी बरतने के निर्देश जारी किए गए हैं.