Omicron Variant के ज्यादा खतरनाक होने के फिलहाल सबूत नहीं, और स्टडी की जरूरत: एक्सपर्ट

0
101

Image Source : PTI
Omicron के ज्यादा खतरनाक होने के फिलहाल सबूत नहीं, और स्टडी की जरूरत: एक्सपर्ट

Highlights

  • अतिरिक्त कदम उठाने से इस वेरिएंट से लड़ने के तरीके जानने के लिए समय मिलेगा
  • सिंगापुर में शुक्रवार तक 2,67,916 मामले सामने आए हैं और 744 लोगों की मौत हुई

सिंगापुर: कोरोना वायरस के नए स्वरूप ओमीक्रोन से संबंधित लक्षणों के अन्य स्वरूप से ज्यादा खतरनाक होने या मौजूदा टीके या इलाज के इस पर अप्रभावी होने के संबंध में फिलहाल कोई सबूत नहीं हैं। सिंगापुर स्वास्थ्य मंत्रालय के हवाले से एक खबर में यह बात कही गई है। ‘चैनल न्यूज एशिया’ की खबर के अनुसार मंत्रालय ने कहा कि ओमीक्रोन से संक्रमित दो लोगों ने सिंगापुर से मलेशिया और ऑस्ट्रेलिया की यात्रा की। सिंगापुर स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि ओमीक्रोन के संबंध में और अधिक जानकारियां और अध्ययन की जरूरत है और आने वाले सप्ताह में वैश्विक स्तर पर इसके और मामले आने की आशंका है। 

मंत्रालय ने कहा कि एहतियात के अतिरिक्त कदम उठाने से उन्हें इस स्वरूप से लड़ने के तरीके जानने के लिए समय मिलेगा। सिंगापुर के चांगी हवाई अड्डे पर ओमीक्रोन संक्रमण के प्रसार पर मंत्रालय ने कहा कि संक्रमण का पहला मामला जोहानिसबर्ग से सिंगापुर एयरलाइन की एक उड़ान से 27 नवंबर को यात्रा करने वाले व्यक्ति का है। वह व्यक्ति उसी दिन की ट्रांजिट उड़ान के लिए यहां पहुंचा। इसके बाद व्यक्ति ने सिंगापुर एयरलाइन की एक अन्य उड़ान से 28 नवंबर को सिडनी की यात्रा की। 

ऑस्ट्रेलिया ने व्यक्ति के संक्रमित होने की पुष्टि की। व्यक्ति दक्षिण अफ्रीका से रवाना होने से पहले 24 नवंबर को नेगेटिव पाया गया था। सिंगापुर में शुक्रवार तक संक्रमण के 2,67,916 मामले सामने आए हैं और 744 लोगों की मौत हुई है। 

उधर, दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि जिन लोगों को कोविड-19 हो चुका है उन्हें, वायरस के नए स्वरूप ‘ओमीक्रोन’ से संक्रमित होने की आशंका, किसी और स्वरूप से संक्रमित होने की अपेक्षा अधिक है। अनुसंधानकर्ताओं का एक समूह दक्षिण अफ्रीका में दोबारा संक्रमित होने के मामलों का अध्ययन कर रहा है और उसने पता लगाया है कि ओमीक्रोन के आने के बाद से पुनः संक्रमित होने के मामलों में वृद्धि हुई है। ऐसा पहले सामने आए वायरस के प्रकारों, जिसमें डेल्टा भी शामिल है, नहीं देखा गया। 

अनुसंधान के नतीजों को बृहस्पतिवार को ऑनलाइन प्रकाशित किया गया है। यह नतीजे प्रारंभिक हैं और अभी तक इनकी वैज्ञानिक समीक्षा नहीं की गई है। अनुसंधानकर्ताओं ने यह नहीं बताया है कि दोबारा संक्रमण के कितने मामले ओमीक्रोन के हैं। यह भी नहीं कहा गया है कि ओमीक्रोन से संक्रमित हुए लोग गंभीर रूप से बीमार हुए या नहीं।

इनपुट-भाषा

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here