PAK ने J&K में किया सीजफायर वॉयलेशन, JCO समेत 2 जवान शहीद

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के पुंछ में कृष्णा घाटी सेक्टर में सोमवार को पाकिस्तान ने सीजफायर वॉयलेशन किया। गोलीबारी में भारत के 2 जवान शहीद हो गए और एक जवान घायल हो गया। अप्रैल में एलओसी के पास पुंछ और राजौरी सेक्टर में 7 बार सीजफायर वॉयलेशन हुआ था। रॉकेट लॉन्चर और ऑटोमैटिक हथियारों से गोलीबारी…
– न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान की तरफ से पुंछ सेक्टर में सुबह 8.30 बजे रॉकेट लॉन्चर और ऑटोमैटिक हथियारों से फायरिंग की गई। इसमें नायब सूबेदार परमजीत सिंह और बीएसएफ के हेड कॉन्स्टेबल प्रेम सागर शहीद हो गए। बीएसएफ के राजेंद्र सिंह जख्मी हो गए।
– 4 अप्रैल को पाकिस्तान की तरफ से ऑटोमैटिक हथियारों और मोर्टार से गोलीबारी गई थी। इसके बाद आर्मी को फॉरवर्ड पोस्ट्स पर तैनात किया गया था।
– 3 अप्रैल को भी राजौरी जिले के बालाकोट सेक्टर में करीब 11 बजे और दिगवार एरिया में सुबह 9 बजे पाकिस्तान की तरफ से गोलीबारी गई थी। दिगवार में हेवी मोर्टार से फायरिंग की गई थी।
– 1 अप्रैल को पुंछ में ही एक जूनियर कमीशंड अफसर (जेसीओ) आईईडी ब्लास्ट के चलते शहीद हो गया था।
– 2016 में एलओसी के पास 228 और इंटरनेशनल बॉर्डर पर 221 सीजफायर वॉयलेशन हुए थे।
मार्च में पुंछ में 4 सीजफायर वॉयलेशन
– 19 मार्च को पुंछ के भिम्बर गली एरिया में पाक की तरफ से एलओसी से सटे इलाकों में गोलीबारी हुई।
– 13 मार्च को पाक फौजों ने पुंछ सेक्टर में मोर्टार से गोलीबारी की।
– 12 मार्च को पुंछ के कृष्णा घाटी और चकन दे बाग सेक्टर में सीजफायर वॉयलेशन हुआ।
– वहीं, 9 मार्च को पुंछ में पाक की तरफ से हेवी फायरिंग के चलते आर्मी जवान दीपक घाटगे शहीद हो गए थे।
कश्मीरियों की सियासी लड़ाई में मदद करते रहेंगे: PAK आर्मी चीफ
– पाकिस्तान के आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा ने कहा कि उनका देश और आर्मी कश्मीरियों की सियासी लड़ाई में मदद करना जारी रखेंगे। बाजवा ने रविवार को लाइन ऑफ कंट्रोल यानी एलओसी का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने पाकिस्तानी ट्रूप्स से मुलाकात भी की।
– बाजवा ने इसके बाद सैनिकों के सामने स्पीच भी दी। उन्होंने भारत पर सीजफायर वॉयलेशन का आरोप लगाया। बाजवा ने सैनिकों से कहा- “बॉर्डर पर आपको किसी भी हालात का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए।”
– “भारत कश्मीर में स्टेट स्पॉन्सर टेरेरिज्म को बढ़ावा दे रहा है लेकिन पाकिस्तान कश्मीरियों की सियासी लड़ाई को पहले की तरह सपोर्ट करना जारी रखेगा।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *