PAK में फेसबुक पर ईशनिंदा के जुर्म में पहली बार सुनाई गई मौत की सजा

पाकिस्तान में एक माइनॉरिटी शिया मुस्लिम शख्स को फेसबुक पर ईशनिंदा के जुर्म में मौत की सजा सुनाई गई है। एंटी-टेररिज्म कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई की और फैसला दिया। सोशल मीडिया पर ईशनिंदा के आरोप में मौत की सजा सुनाए जाने का यह पहला मामला है। 30 साल के तैमूर को हुई सजा…
– न्यूज एजेंसी के मुताबिक 30 साल के तैमूर रजा को पंजाब प्रोविंस के बहावलपुर डिस्ट्रिक्ट में एंटी टेररिज्म कोर्ट के जज शबीर अहमद ने शनिवार को यह सजा सुनाई। कोर्ट ने तैमूर को फेसबुक पर अपमानजनक कॉन्टेंट डालने का दोषी पाया।
– तैमूर लाहौर से 200 km दूर ओकरा का रहने वाला है। उसे पिछले साल बहावलपुर में अरेस्ट किया गया था। तैमूर के साथ काम करने वालों ने उसके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। जिसमें कहा गया था कि तैमूर ने पैगंबर मोहम्मद और उनकी पत्नी के खिलाफ फेसबुक पर अपमानजनक कॉन्टेंट पोस्ट किया था।
साइबर क्राइम से जुड़े मामले में सबसे सख्त सजा
– पाकिस्तान में साइबर क्राइम से जुड़े मामले में दी गई यह अब तक की सबसे सख्त सजा है। पाक में 97% आबादी मुस्लिम है। यहां ईशनिंदा को बेहद सेंसिटिव मुद्दा माना जाता है, लेकिन अब तक किसी को मौत की सजा नहीं सुनाई गई थी।
कानून के गलत इस्तेमाल का आरोप
– पाक में ईशनिंदा को लेकर सख्त कानून है, जिसका विरोध किया जा रहा है। कुछ राइट ग्रुप्स का कहना है कि इस कानून का गलत इस्तेमाल हो रहा है।
– पिछले साल देश में विवादित साइबर क्राइम बिल (प्रिवेन्शन ऑफ इलेक्ट्रॉनिक क्राइम्स एक्ट 2016) पास हुआ था, जिसमें साइबर क्राइम से जुड़े अपराधों के लिए सख्त सजा का प्रोविजन है।
स्टूडेंट को पीट-पीटकर मार डाला गया था
– पाकिस्तान में इसी साल अप्रैल में मशाल खान नाम के एक स्टूडेंट को ईशनिंदा के कथित आरोप में पीट-पीटकर मार डाला गया था। मशाल खैबर पख्तूनख्वा प्रोविंस के मरदान स्थित अब्दुल वली खान यूनिवर्सिटी का स्टूडेंट था। यूनिवर्सिटी के ही कुछ अन्य स्टूडेंट्स ने कैम्पस में उसकी हत्या कर दी थी। उसके बाद उसे गोलियां भी मारी गई थीं। मशाल पर अहमदिया संप्रदाय को बढ़ावा देने और ईशनिंदा करने वाली चीजें इंटरनेट पर डालने का आरोप था।
– बता दें कि पाकिस्तान में ईशनिंदा एक गंभीर अपराध है। इसी साल मार्च में पीएम नवाज शरीफ ने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर मौजूद ईशनिंदा के सभी कॉन्टेंट हटाने का आदेश जारी किया था। साथ ही कहा था कि अगर कोई इस मामले में दोषी पाया गया तो उसे कानून के तहत सख्त सजा का सामना करना पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *