Tuesday, May 28, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

जिन्‍हें भारत की समझ नहीं…CAA पर अमेरिका के दखल पर विदेश मंत्रालय का कड़ा रुख, यूं दिया जवाब

हाइलाइट्स

नागरिकता संशोधन कानून 2019 बीती 11 मार्च से पूरे देश में लागू हो गया है. अमेरिका की तरफ से इसपर चिंता जताई गई, जिसपर भारत ने स्‍पष्‍ट जवाब दिया गया.

नई दिल्‍ली. अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा नागरिकता संशोधन कानून 2019 (CAA) पर टिप्‍पणी किए जाने के बाद इस मामले में भारत के विदेश मंत्रालय की तरफ से कड़ी आपत्ति दर्ज की गई है. विदेश मंत्रालय की तरफ से यह स्‍पष्‍ट कर दिया गया है कि यह भारत का आंतरिक मामला है. इसमें किसी भी बाहरी देश के दखल की कोई जरूरत नहीं है. अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने इससे पहले कहा था कि हम 11 मार्च से प्रभाव में आए सीएए के बारे में चिंतित हैं. हम बारीकी से निगरानी कर रहे हैं कि इस अधिनियम को कैसे लागू किया जाएगा. धार्मिक स्वतंत्रता का सम्मान और सभी समुदायों के लिए कानून के तहत समान व्यवहार मौलिक लोकतांत्रिक सिद्धांत हैं.

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता रणधीर जायसवाल ने अमेरिका के रिएक्‍शन पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन अधिनियम भारत का आंतरिक मामला है और यह भारत की समावेशी परंपराओं और मानवाधिकारों के प्रति हमारी दीर्घकालिक प्रतिबद्धता को ध्यान में रखते हुए है. यह अधिनियम अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश के हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों से संबंधित उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों को सुरक्षित आश्रय प्रदान करता है, जो 31 दिसंबर 2014 को या उससे पहले भारत में प्रवेश कर चुके हैं.

यह  भी पढ़ें:- दिल्‍ली शराब घोटाला: पूर्व CM की बेटी को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत, लेकिन ED ने छापा मार किया बड़ा एक्‍शन

CAA नहीं छीनता किसी की नागरिकता
रणधीर जायसवाल ने आगे कहा, ‘सीएए नागरिकता देने के बारे में है, नागरिकता छीनने के बारे में नहीं. यह राज्यविहीनता के मुद्दे को संबोधित करता है, मानवीय गरिमा प्रदान करता है और मानवाधिकारों का समर्थन करता है. जहां तक सीएए के कार्यान्वयन पर अमेरिकी विदेश विभाग के बयान का संबंध है, हमारा मानना है कि यह गलत, गलत जानकारी वाला और अनुचित है.’

जिन्‍हें भारत की सीमित समझ…CAA पर अमेरिका के दखल पर विदेश मंत्रालय का कड़ा रुख, यूं दिया जवाब

जिन लोगों को भारत की परंपराओं की सीमित समझ…
विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने कहा, ‘भारत का संविधान अपने सभी नागरिकों को धार्मिक स्वतंत्रता की गारंटी देता है. अल्पसंख्यकों के साथ व्यवहार पर किसी भी चिंता का कोई आधार नहीं है. वोट बैंक की राजनीति को संकट में फंसे लोगों की मदद के लिए किसी प्रशंसनीय पहल के बारे में विचार निर्धारित नहीं करना चाहिए. जिन लोगों को भारत की बहुलवादी परंपराओं और क्षेत्र के विभाजन के बाद के इतिहास की सीमित समझ है, उनके व्याख्यान देने का प्रयास नहीं किया जाना चाहिए. भारत के भागीदारों और शुभचिंतकों को उस इरादे का स्वागत करना चाहिए जिसके साथ यह कदम उठाया गया है.’

Tags: America News, CAA, CAA protest, Foreign Ministry

Source link