Tuesday, May 28, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

पिता के खिलाफ जाकर की नसीरुद्दीन से शादी, रत्ना पाठक शाह बोलीं- ‘नसीर की फैमिली ने धर्म बदलने के लिए…’

मुंबई. बॉलीवुड एक्ट्रेस रत्ना पाठक और एक्टर नसीरुद्दीन शाह की शादीशुदा जिंदगी को 42 साल हो गए हैं. रत्ना और नसीरुद्दीन शाह पिछले कई सालों से इंटर रिलीजन शादी को लेकर ट्रोल होते आ रहे हैं. इस पर कपल ने बार-बार प्रतिक्रिया भी दी है. एक बार फिर से रत्ना पाठक शाह ने इस बारे में बात की और शादीशुदा जिंदगी के इतने सालों का अनुभव शेयर किया है. रत्ना पाठक ने बताया कि उनके पिता को नसीरुद्दीन शाह संग उनकी शादी को लेकर आपत्ति थी. उन्होंने नसीरुद्दीन का आभार भी जताया.

रत्ना पाठक शाह ने नसीरुद्दीन शाह के परिवार के प्रति उनके अटूट सपोर्ट के लिए आभार जताया. इसके अलावा रत्ना ने अपनी सास के साथ अपने रिलेशन और बॉन्डिंग को भी अच्छा बताया. हाउटरफ्लाई को दिए इंटरव्यू में दिया रत्ना ने नसीरुद्दीन शाह से अपनी शादी को लेकर अपने परिवार की आपत्तियों पर खुलकर चर्चा की.

रत्ना पाठक शाह ने खुलासा किया कि उनके पिता शादी से पूरी तरह खुश नहीं थे, लेकिन दुख की बात है कि उसकन शादी होने से पहले ही उनका निधन हो गया. रत्ना ने नसीरुद्दीन और उनकी मां के बीच शुरू में उतार-चढ़ाव भरे रिश्ते के बारे में भी खुलकर बात की और इसे अस्थिर बताया. हालांकि, समय के साथ, वे अपने मतभेदों को सुलझाने में कामयाब रहे और अब उनके बीच दोस्ती है.

रत्ना पाठक ने कहा कि नसीरुद्दीन शाह की फैमिली ने उन पर कभी भी धर्म परिवर्तन के लिए दबाव नहीं डाला. उन्होंने कहा, “नसीर के परिवार ने बिल्कुल भी हंगामा नहीं किया. एक बार भी किसी ने ‘कन्वर्ट’ शब्द का उल्लेख नहीं किया. मेरे बारे में किसी ने कुछ नहीं कहा. उन्होंने मुझे वैसे ही स्वीकार किया जैसे मैं हूं. मैं बहुत, बहुत भाग्यशाली हूं क्योंकि मैंने ऐसे लोगों के बारे में सुना है जिन्हें घर बसाने में परेशानी होती है.”

रत्ना पाठक शाह ने कहा, “इसके बाद, मेरी उन सभी से दोस्ती हो गई, जिनमें मेरी सास भी शामिल थीं, जो बहुत ही घरेलू किस्म की इंसान थीं लेकिन हर स्थिति में बेहद उदार थीं.” 67 साल की एक्ट्रेस ने अपनी सफल शादी का राज भी शेयर किया और कपल को एक-दूसरे की बात सुनने और बात करने की सलाह दी. रत्ना ने किसी भी रिश्ते में आपसी सम्मान के महत्व पर जोर दिया.

Tags: Bollywood actress, Naseeruddin Shah

Source link