Editor’s Pick

रूस के विनाशकारी हमले के बाद यूक्रेन में छा गया अंधेरा! बिजली-पानी को तरसे लोग

Image Source : AP
यूक्रेन में बिजली-पानी को तरसे लोग

कीव: रूस के हमले के कारण यूक्रेन की राजधानी कीव के करीब 70 फीसदी हिस्से में बृहस्पतिवार को सुबह बिजली गुल हो गई। यूक्रेन का विद्युत नेटवर्क पहले ही संकट में है और इन हमलों ने सर्दियां शुरू होने के बीच हालत और खराब कर दी है। इन हमलों के कारण पड़ोसी मालदोवा में भी बिजली का संकट पैदा हो गया। रूस ने नौ महीने पहले 24 फरवरी को यूक्रेन पर हमला किया था। उसके बलों को युद्ध मैदान में मिले झटकों के बाद से रूस, अब यूक्रेन के ऊर्जा बुनियादी ढांचों पर विनाशकारी हमले कर रहा है। कीव के मेयर विताली क्लित्स्को ने एक बयान में बताया कि इंजीनियर बिजली आपूर्ति बहाल करने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं। 

67 क्रूज मिसाइल और 10 ड्रोन दागे

यूक्रेन के जनरल स्टाफ ने बृहस्पतिवार को सुबह बताया कि रूसी सेना ने बुधवार को कीव और यूक्रेन के कई अन्य क्षेत्रों में आवासीय भवनों और ऊर्जा बुनियादी ढांचे पर बड़े पैमाने पर हमले करते हुए 67 क्रूज मिसाइल और 10 ड्रोन दागे। यूक्रेन में अन्य स्थानों पर भी बुधवार के हमलों से बाधित बिजली एवं जल आपूर्ति बहाल करने के प्रयास जारी है। यूक्रेन के ऊर्जा मंत्री हरमन हालुशचेंको ने बताया कि पूरी तरह से काम कर रहे चार में से तीन परमाणु ऊर्जा संयंत्रों को ग्रिड से पुन: जोड़ दिया गया है। ये संयंत्र बुधवार के हमलों के बाद बंद कर दिए गए थे। पोल्तावा क्षेत्र के गवर्नर दमित्रो लुनिन ने कहा, ”आगामी कुछ घंटों में हम अहम बुनियादी ढांचे और इसके बाद अधिकतर घरों में बिजली आपूर्ति बहाल कर देंगे।”

नए हमले ने मचाई तबाही

उन्होंने बताया कि क्षेत्र में 15,500 लोगों और 1,500 कानूनी संस्थाओं के लिए बिजली पहले ही बहाल कर दी गई है। लुनिन ने बताया कि पोल्तावा शहर के कई हिस्सों में पानी की आपूर्ति फिर से शुरू हो गई है। नए हमलों के कारण पहले से तहस-नहस ऊर्जा ढांचे पर बोझ और बढ़ गया है। नए हमलों से पूर्व यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा था कि रूस के हमलों के कारण यूक्रेन की करीब आधी आधारभूत संरचना बर्बाद हो गई है। 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन




Source link

Related Articles

Back to top button