Tuesday, May 28, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

लुप्त होने की कगार पर है ये पवित्र पौधा, सिर से पांव तक औषधीय गुणों से भरपूर, सेवन करेंगे तो 5 बीमारियां मोड़ लेंगी मुंह!

Paniyala Fruit Benefits: हमारे आसपास कई ऐसे पेड़-पौधे हैं, जो सेहत के लिए अनमोल खजाना हैं. पनियाला का पेड़ इनमें से एक है. इसका फल ही नहीं, पत्तियां भी गंभीर बीमारियों को मात देने में सक्षम हैं. जामुन जैसा दिखने वाला यह गोल फल डाइजेशन के लिए लाभकारी माना जाता है. साथ ही पित्त की समस्या में भी सुधार लाता है. वहीं, इसकी सूखी पत्तियों का उपयोग अस्थमा के इलाज के लिए किया जाता है. इसके अलावा, इसकी पत्तियों के काढ़े का उपयोग दस्त और पेचिश के इलाज के लिए किया जाता है.

बता दें कि, भारत में पनियाला के फल को बेहद पवित्र माना गया है, क्योंकि कुछ साल पहले तक इस फल को छठ पर्व में जरूर शामिल किया जाता था. चिंता की बात ये है कि, अब पनियाला के पेड़ लगातार कम होते जा रहे हैं. हालांकि, भारत में इसके संरक्षण का काम जारी है.

पत्तियां और छाल भी गुणकारी

पित्त को नष्ट करने के गुण: आयुर्वेद महाविद्यालय एवं चिकित्सालय लखनऊ की डॉ. शची श्रीवास्तव के अनुसार, पनियाला का फल गर्म होता है और वात व कफ के अलावा पित्त को भी नष्ट करने की क्षमता रखता है.

बढ़ी तिल्ली और पीलिया का इलाज: पनियाला शरीर के लिए बेहद गुणकारी माना गया है. पनियाला का उपयोग हाजमा ठीक करने, भूख बढ़ाने के साथ-साथ बढ़ी हुई तिल्ली और पीलिया के उपचार में भी किया जाता रहा है.

तनाव दूर करने में सक्षम: एक्सपर्ट के मुताबिक, पनियाला मूड ठीक करने में भी अहम भूमिका निभाता है. दरअसल, पनियाला के पत्तों में बड़ी मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट मौजूद होता है, जो तनाव को भी कम कर सकते हैं.

डाइजेशन और खांसी में असरदार: पनियाले को डाइजेशन के लिए बेहद लाभकारी माना जाता है. इसकी पत्तियों और छाल का उपयोग कई बीमारियां खांसी, मसूड़ों में दर्द, लूजमोशनआदि की रोकथाम के लिए भी किया जाता है.

ये भी पढ़ें:  शरीर को ऊर्जा देने में नंबर-1 है ये दाल, बैड कोलेस्ट्रॉल को भी रखती है ‘शांत’, डाइट में शामिल करने से मिलेंगे ढेरों लाभ

ये भी पढ़ें: