सदी के खलनायक ‘प्राण’ आएं जानें उनके जीवन की 7 घटनाएं शायद ही जानते होंगे आप..

प्राण एक ऐसी शख्सियत थी जिसने हमेशा अपने चेहरे के साथ-साथ आंखों से भी अभिनय की एक उत्कृष्ट मिसाल पेश की। उनकी आंखों में किरदार का चरित्र साफ -साफ झलकता था। ऐसा लगता था मानों उनके सिवाए यह किरदार किसी और कलाकार पर फिट बैठ ही नहीं सकता था। 12 जुलाई 2013 को प्राण इस फानी दुनिया से रुख्सत हो गए थे। आए हम आपको उनके जीवन की 7 ऐसी बातें बताते हैं जो आप शायद ही जानते होंगे।
प्राण अकेले ऐसे अभिनेता रहे हैं, जिन्होंने कपूर खानदान की हर पीढ़ी के साथ काम किया। चाहे वह पृथ्वीराज कपूर हों, राजकपूर, शम्मी कपूर, शशि कपूर, रणधीर कपूर, राजीव कपूर, रन्‍धीर कपूर, करिशमा कपूर या करीना कपूर।
पुरानी दिल्ली के बल्लीमारान इलाके में बसे एक रईस परिवार में 12 फ़रवरी, 1920 को प्राण साहब ने इस दुनिया में कदम रखा। बचपन का उनका नाम ‘प्राण कृष्ण सिकंद’ था। वे बचपन से ही पढ़ाई में होशियार रहे, खास तौर पर गणित में। 12वीं की परीक्षा उन्होंने रामपुर के राजा हाईस्कूल से पास की। दिल्ली में उनका परिवार बेहद समृद्ध था।
बहुत ही कम लोग जानते होंगे क‌ि एक सशक्त और सफल अभिनेता के बचपन का सपना बड़े होकर एक फोटोग्राफर बनाने का था और इस सपने को साकार करने के लिए उन्होंने , दिल्ली की एक कंपनी ‘ए दास & कंपनी’ में एक अप्रेंटिस के तौर पर काम भी किया लेकिन उनका इंतजार तो भारतीय सिनेमा जगत कर रहा था।
1940 में लेखक मोहम्मद वली ने जब पान की दुकान पर प्राण को खड़े देखा तो पहली नजर में ही सोच लिया कि ये उनकी पंजाबी फ़िल्म “यमला जट” के लिए बेहतर है। उन्होंने प्राण को इसके लिए तैयार किया। ये फिल्म बेहद सफल रही इसके बाद प्राण साहब ने कभी भी पीछे मूड़ कर नहीं देखा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *