Saturday, May 18, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

1984 में दर्ज हुआ था मामला, 2024 में हुई भगोड़े की गिरफ्तारी, 1200 KM दूर जाकर जी रहा था चैन की जिंदगी

मुंबई. देश की आर्थिक राजधानी मुंबई पुलिस ने अपहरण और दुष्कर्म के एक मामले में पिछले 40 वर्षों से फरार चल रहे 70 वर्षीय व्यक्ति को उत्तर प्रदेश के आगरा से गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इसको लेकर जानकारी दी है. अधिकारी ने बताया कि आरोपी की पहचान पापा उर्फ दाउद बंदू खान के रूप में हुई है. उन्होंने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर दक्षिण मुंबई के डॉ. दादाभाई भड़कामकर मार्ग थाने के पुलिसकर्मियों की एक टीम ने खान को आगरा में धर दबोचा. यह मामला अपने आप में अनोखा है. फरार होने के 4 दशक बाद भी पुलिस ने आरोपी का पीछा करना नहीं छोड़ा.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी दाउद बंदू खान को ट्रांजिट रिमांड पर मुंबई लाया गया है. उन्होंने बताया, ‘वर्ष 1984 में एक महिला की शिकायत के आधार पर खान के खिलाफ अपहरण और दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज किया गया था।.’ खान को मामले में गिरफ्तार किया गया था और वह जमानत पर जेल से बाहर था. पुलिस अधिकारी ने आगे बताया, ‘जैसे ही मुकदमे की सुनवाई शुरू हुई तो आरोपी एक-दो तारीखों पर अदालत में पेश हुआ, लेकिन उसके बाद से वह कभी अदालत में नहीं आया. अदालत ने उसे मामले में भगोड़ा घोषित किया हुआ था.’

सलमान खान के घर फायरिंग केस में एक्शन, राजस्थान से पकड़ा गया शूटर्स का सबसे बड़ा मददगार, क्या है नाम?

संपत्ति बेचकर मुंबई से भागा
डॉ. डीबी मार्ग थाना की एक टीम ने खोज अभियान शुरू किया और फॉकलैंड मार्ग स्थित उसके आवास पर छापा मारा, जिसके बाद मालूम हुआ कि वह अपनी संपत्ति बेचकर अपने परिवार के साथ शहर छोड़कर चला गया. अधिकारी ने बताया कि जांच के दौरान यह खुलासा हुआ कि वह उत्तर भारत के किसी राज्य में छिपा हुआ है. उन्होंने बताया कि इतने वर्षों तक अलग-अलग थानों की पुलिस टीमों ने उसे ढूंढने का प्रयास किया लेकिन उसका सुराग नहीं मिला.

1984 में दर्ज हुआ था मामला, 2024 में हुई भगोड़े की गिरफ्तारी, 1200 KM दूर जाकर जी रहा था चैन की जिंदगी

आगरा में होने की सूचना
पुलिस ने बताया कि अपहरण और रेप के आरोपी दाउद बंदू खान के उत्‍तर प्रदेश के आगरा में होने की सूचना मिली थी. अधिकारी ने बताया, ‘पुलिस अधिकारियों को हाल ही में सूचना मिली कि आरोपी अपने परिवार के साथ आगरा में रह रहा है, जिसके बाद पुलिस की एक टीम को उत्तर प्रदेश भेजा गया, जहां खान को पकड़ लिया गया.’ यह मामला इसलिए भी दिलचस्‍प है कि वर्षों का वक्‍त बीतने के बाद भी पुलिस ने आरोपी की फाइल बंद नहीं की थी. उसका पता लगाने की लगातार कोशिशें की जा रही थीं. आखिरकार 4 दशक के बाद पुलिस को इसमें सफलता मिल ही गई.

Tags: Crime News, Mumbai News

Source link