Saturday, May 18, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

ED बार-बार कर रही थी विरोध, हाईकोर्ट के आगे एक नहीं चली, बेंच ने दे दी जमानत, जज बोले- एक कैदी को भी हक..

मुंबई. बंबई हाईकोर्ट ने धनशोधन मामले में गिरफ्तार जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल को स्वास्थ्य के आधार पर दो महीने के लिए अंतरिम जमानत देते हुए कहा कि एक कैदी को भी चिकित्सकीय उपचार का अधिकार होता है और वह सम्मान का हकदार है. न्यायमूर्ति एन. जे. जमादार की एकल पीठ ने कहा कि एक विचाराधीन कैदी के रूप में इलाज कराने और बिना किसी रोक-टोक के नागरिक के रूप में उपचार कराने के बीच अंतर है. पीठ ने सोमवार को गोयल को चिकित्सकीय आधार पर दो महीने की अंतरिम जमानत दे दी थी. आदेश की प्रति मंगलवार को उपलब्ध कराई गई.

गोयल (75) ने चिकित्सकीय और मानवीय आधार पर अंतरिम जमानत प्रदान करने का आग्रह किया था, क्योंकि वह और उनकी पत्नी कैंसर से पीड़ित हैं. एक विशेष अदालत ने फरवरी में गोयल को जमानत देने से इनकार कर दिया था, लेकिन उन्हें अपनी पसंद के निजी अस्पताल में भर्ती होने और इलाज कराने की अनुमति दे दी थी. इसके बाद गोयल ने अंतरिम जमानत के लिए उच्च न्यायालय का रुख किया था.

यह भी पढ़ें:- केजरीवाल का नाम आने में 2 साल क्‍यों लगे? CM की याचिका पर SC ने दागे कठोर सवाल, ED बोली- शुरू में करते तो…

न्यायमूर्ति जमादार ने आदेश देने से पहले मेडिकल रिकॉर्ड का अवलोकन किया और कहा, “यह मानना ठीक नहीं होगा कि आवेदक (गोयल) बीमार नहीं है.” पीठ ने कहा कि किसी कैदी को गं