Sunday, February 25, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

Indian man Death in US 41 year old Indian origin man dies due to deadly attack on Washington street

America News: अमेरिका के वाशिंगटन के एक रेस्तरां के बाहर जानलेवा हमले में घायल हुए भारतीय-अमेरिकी कार्यकारी की इलाज के दौरान करीब एक सप्ताह बाद मौत हो गई. पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक, मृतक विवेक तनेजा वर्जीनिया के रहने वाले थे. वह 2 फरवरी को एक रेस्तरां के बाहर घायल अवस्था में मिले थे.

वाशिंगटन पोस्ट ने एक पुलिस रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा, ”41 वर्षीय विवेक तनेजा लगभग 2 बजे रेस्तरां से बाहर निकले और पास की सड़क पर लड़ाई शुरू हो गई. इस दौरान संदिग्ध व्यक्ति ने सड़क की फुटपाथ पर विवेक का सिर पटक दिया. हमले में वह बेहोश हो गए और जब पुलिस पहुंची तो उसने उन्हें जानलेवा चोटों के साथ पाया. विवेक को अस्पताल ले जाया गया. पुलिस ने कहा कि बुधवार को अस्पताल में चोटों के कारण उनकी मृत्यु हो गई.

सीसीटीवी में दिखे संदिग्ध की तलाश की जा रही है. उसकी पहचान नहीं हो पाई है. पुलिस ने आरोपी की गिरफ्तारी के लिए सूचना देने वाले को 25,000 डॉलर का इनाम देने की घोषणा की है.

तनेजा अमेरिकी सरकार के लिए प्रौद्योगिकी समाधान और विश्लेषण उत्पाद प्रदाता डायनेमो टेक्नोलॉजीज के सह-संस्थापक थे. कंपनी की वेबसाइट के अनुसार, वह कंपनी के अध्यक्ष भी थे और उन्होंने इसकी रणनीतिक विकास और साझेदारी पहल का नेतृत्व किया.

अमेरिका में इस साल पांच भारतीय मूल के छात्रों की मौत

पर्ड्यू विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले भारतीय-अमेरिकी समीर कामथ को इस सप्ताह एक नेचर रिजर्व में मृत पाया गया था. अधिकारियों ने कहा कि उनकी मौत सिर पर खुद को मारी गई गोली से हुई.

अमेरिकी पासपोर्ट रखने वाला 19 वर्षीय छात्र श्रेयस रेड्डी बेनिगर पिछले सप्ताह मृत पाया गया था, लेकिन अधिकारियों ने किसी भी तरह की गड़बड़ी से इनकार किया था.

एक अन्य छात्र नील आचार्य पर्ड्यू विश्वविद्यालय परिसर में मृत पाया गया था, उसके कुछ घंटों बाद उसकी मां ने उसके लापता होने की सूचना दी थी.

हरियाणा के 25 वर्षीय छात्र विवेक सैनी को 16 जनवरी को जॉर्जिया के लिथोनिया में एक बेघर व्यक्ति ने पीट-पीट कर मार डाला था. एक अन्य भारतीय छात्र अकुल धवन को जनवरी में इलिनोइस विश्वविद्यालय अर्बाना-शैंपेन के बाहर मृत पाया गया था.

इन मौतों के देखते हुए भारत में अमेरिकी दूत एरिक गार्सेटी ने आश्वस्त किया कि अमेरिका यह सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है कि भारतीय छात्रों के लिए अमरिका सुरक्षित स्थान बना रहे.

यह भी पढ़ेंः US Student Death: अमेरिका में लगातार हो रही भारतीय छात्रों की मौत, श्रेयस रेड्डी कौन थे? जिनकी हाल ही में मिली लाश

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular Articles