Sunday, February 25, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

Jagjit Singh shattered after step daughter suicide son died in road accident wife chitra revealed

Jagjit Singh On Daughter Suicide: दिवंगत गजल गायक जगजीत सिंह एक लीजेंड रहे है. उनके गीतों ने हमेशा टूटे दिल के लिए मरहम का काम किया हैं. उनकी आवाज दिल के तारों को झकझोर देती है. हालांकि जगजीत सिंह ने खुद अपनी पर्सनल लाइफ में काफी दर्द झेला था. फिल्म मेकर महेश भट्ट ने हाल ही में खुलासा किया कि जब सिंह ने 1990 में एक दुर्घटना में अपने बेटे विवेक सिंह को खो दिया था, तो उसके शव को पाने के लिए उन्हें अधिकारियों को रिश्वत देनी पड़ी थी. वहीं उनकी सौतेली बेटी ने सुसाइड कर ली थी. इस घटना के बाद जगजीत सिंह टूट कर बिखर गए थे.

सौतेली बेटी की सुसाइड के बाद टूट गए थे जगजीत सिंह
2012 में जगजीत की मृत्यु के एक साल बाद फिल्मफेयर के साथ एक इंटरव्यू में चित्रा ने बताया था कि कैसे उनकी बेटी मोनिका के आत्महत्या करने के बाद जगजीत टूट गए थे.  मोनिका चित्रा के पहले पति की बेटी थीं. जगजीत ने मोनिका को तब देखा था जब वह पांच साल की थीं, तभी उनकी उनसे पहली मुलाकात हुई थी और वह उनके लिए बेटी की तरह थीं. इसलिए, उसकी आत्महत्या की खबर सुनकर वह टूट गये थे. चित्रा ने खुलासा किया था कि जगजीत अमेरिका में दौरे पर थे और उन्होंने अपने शो रद्द कर दिए, दो दिनों तक कनेक्टिंग फ्लाइट से उड़ान भरते रहे और घर पहुंच गए. ‘वह काफी परेशान थे. हालांकि उन्होंने कभी ज्यादा कुछ जाहिर नहीं किया. लेकिन उनका सपोर्ट चित्रा के लिए काफी था.

चित्रा की बेटी मोनिका की शादियां रही थीं असफल
चित्रा ने आगे बयां किया था कि उनकी बेटी मोनिका खूबसूरत और मजबूत थी और सबकुछ अकेले ही संभालती थी. लेकिन वह हार गई और और फिर वो सहन नहीं कर सकी. मोनिका की शादियां असफल रहीं थी.

एक दूसरे को मम्मी-पापा कहते थे जगजीत-चित्रा
जगजीत के साथ अपनी बॉन्डिंग के बारे में बात करते हुए चित्रा ने बताया था कि वे एक-दूसरे को मम्मी-पापा कहकर बुलाते थे, क्योंकि उनके बच्चे एक-दूसरे को यही कहते थे. जब उनका बेटा विवेक जिंदा, तो चित्रा उससे कहती थी, ‘जाओ पापा को बुलाओ’ इस तरह चित्रा भी जगजीत को पापा कहने लगीं और जगजीत उन्हें ‘मम्मी’ कहने लगे थे. बता दें कि 2012 में जगजीत का निधन हो गया था.

जगजीत सिंग की गजलें दिलों को झकझोर देती थीं
बता दें कि जगजीत सिंह का जन्म 8 फरवरी, 1941 को हुआ था. जगजीत सिंह अपनी दिल को झकझोर  देने वाली और मार्मिक ग़ज़लों के लिए जाने जाते थे, जो अक्सर सभी को रुला देती थीं. गायक ने चिट्ठी ना कोई संदेश, वो कागज की कश्ती आज, तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो और चार्जे इश्क जलाने की रात आई है जैसी कईं गजलें गाई थीं.

ये भी पढ़ें- Propose Day 2024: किसी ने विदेश तो किसी ने समंदर किनारे किया प्यार का इजहार, सेलेब्स के रोमांटिक प्रपोजल पर हार बैठेंगे दिल

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular Articles