Editor’s Pick

Meghalaya Constitutes Sit In Violence Case Extends Mobile Internet Ban For 48 Hours In Seven Districts – Meghalaya: हिंसा मामले में मेघालय ने किया एसआईटी का गठन, 48 घंटे के लिए मोबाइल इंटरनेट प्रतिबंध बढ़ाया

असम-मेघालय हिंसा
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

मेघालय सरकार ने असम-मेघालय हिंसा मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है। शुक्रवार को राज्य में कहीं से भी किसी तरह के अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। हालात पर हम नजर बनाए हुए हैं। एक-दो दिन में स्थिति सामान्य हो जाएगी। यह बात अमर उजाला से खास बातचीत में मेघालय के डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (डीजीपी) डॉ. एल.आर.बिश्नोई ने कही।

बिश्नोई ने कहा, घटना की जांच के लिए मेघालय ने एसआईटी का गठन किया है। उन्होंने कहा, सात सदस्यीय एसआईटी का नेतृत्व आईडी स्तर का अधिकारी करेगा। हम हालात पर नजर बनाए हुए हैं। गुरुवार को कुछ छिटपुट घटनाएं हुईं थी, जिस पर काबू पा लिया गया था। उन्होंने खुद घटनास्थल का दौरा किया। अब वहां पर हालात सामान्य है लेकिन सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। लोगों को समझाया जा रहा है और लोग अब धीरे-धीरे समझ भी रहे हैं।

उन्होंने कहा, शुक्रवार को राज्य के किसी भी हिस्से से किसी तरह की अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली है। शिलांग सहित राज्य में स्थिति लगातार सुधर रहे हैं। शनिवार को कुछ संगठनों ने मारे गए लोगों की याद में शिलांग में कैंडल मार्च निकालने की बात कही है, जिसे प्रशासन ने इजाजत दे दी है। यह कैंडल मार्च पुलिस प्रशासन की निगरानी में निकाला जाएगा। बिश्नोई ने कहा, शुक्रवार को यह बात सामने आई थी कि राज्य में पेट्रोल और डीजल की कमी हो गई है लेकिन यह बात सही नहीं है। सरकार ने असम से करीब दस तेल के ट्रेंकर मंगवाए और शिलांग सहित तीन जिलों में तेल की आपूर्ति की गई है। राज्य में किसी तरह की तेल की कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि हमने राज्य की सीमाओं को सील नहीं किया है, बल्कि सुरक्षा के मद्दे नजर केवल एडवाइजरी जारी की थी। उन्होंने कहा, पर्यटकों सहित सभी की सुरक्षा की व्यवस्था की गई है। पर्यटक आ जा रहे हैं। लगातार हालात सुधर रहे हैं और एक से दो दिन में स्थिति बिल्कुल सामान्य हो जाएगी। 

48 घंटे के लिए बढ़ाया या मोबाइल इंटरनेट का निलंबन
असम-मेघालय सीमा पर हुई हिंसा में छह लोगों की मौत के बाद सरकार पूरी तरह सतर्क है। मेघालय सरकार ने 26 नवंबर से सात जिलों में मोबाइल इंटरनेट और डेटा सेवाओं के निलंबन को 48 घंटे के लिए और बढ़ा दिया है।

फायरिंग में हो गई थी छह लोगों की मौत
असम-मेघालय सीमा पर मंगलवार की सुबह हुई हिंसा में एक वन रक्षक सहित छह लोगों की मौत हो गई थी। असम के वन कर्मियों द्वारा अवैध रूप से काटी गई लकड़ियों से लदे एक ट्रक को रोका गया था। 

विस्तार

मेघालय सरकार ने असम-मेघालय हिंसा मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है। शुक्रवार को राज्य में कहीं से भी किसी तरह के अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। हालात पर हम नजर बनाए हुए हैं। एक-दो दिन में स्थिति सामान्य हो जाएगी। यह बात अमर उजाला से खास बातचीत में मेघालय के डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (डीजीपी) डॉ. एल.आर.बिश्नोई ने कही।

बिश्नोई ने कहा, घटना की जांच के लिए मेघालय ने एसआईटी का गठन किया है। उन्होंने कहा, सात सदस्यीय एसआईटी का नेतृत्व आईडी स्तर का अधिकारी करेगा। हम हालात पर नजर बनाए हुए हैं। गुरुवार को कुछ छिटपुट घटनाएं हुईं थी, जिस पर काबू पा लिया गया था। उन्होंने खुद घटनास्थल का दौरा किया। अब वहां पर हालात सामान्य है लेकिन सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। लोगों को समझाया जा रहा है और लोग अब धीरे-धीरे समझ भी रहे हैं।

उन्होंने कहा, शुक्रवार को राज्य के किसी भी हिस्से से किसी तरह की अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली है। शिलांग सहित राज्य में स्थिति लगातार सुधर रहे हैं। शनिवार को कुछ संगठनों ने मारे गए लोगों की याद में शिलांग में कैंडल मार्च निकालने की बात कही है, जिसे प्रशासन ने इजाजत दे दी है। यह कैंडल मार्च पुलिस प्रशासन की निगरानी में निकाला जाएगा। बिश्नोई ने कहा, शुक्रवार को यह बात सामने आई थी कि राज्य में पेट्रोल और डीजल की कमी हो गई है लेकिन यह बात सही नहीं है। सरकार ने असम से करीब दस तेल के ट्रेंकर मंगवाए और शिलांग सहित तीन जिलों में तेल की आपूर्ति की गई है। राज्य में किसी तरह की तेल की कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि हमने राज्य की सीमाओं को सील नहीं किया है, बल्कि सुरक्षा के मद्दे नजर केवल एडवाइजरी जारी की थी। उन्होंने कहा, पर्यटकों सहित सभी की सुरक्षा की व्यवस्था की गई है। पर्यटक आ जा रहे हैं। लगातार हालात सुधर रहे हैं और एक से दो दिन में स्थिति बिल्कुल सामान्य हो जाएगी। 

48 घंटे के लिए बढ़ाया या मोबाइल इंटरनेट का निलंबन

असम-मेघालय सीमा पर हुई हिंसा में छह लोगों की मौत के बाद सरकार पूरी तरह सतर्क है। मेघालय सरकार ने 26 नवंबर से सात जिलों में मोबाइल इंटरनेट और डेटा सेवाओं के निलंबन को 48 घंटे के लिए और बढ़ा दिया है।

फायरिंग में हो गई थी छह लोगों की मौत

असम-मेघालय सीमा पर मंगलवार की सुबह हुई हिंसा में एक वन रक्षक सहित छह लोगों की मौत हो गई थी। असम के वन कर्मियों द्वारा अवैध रूप से काटी गई लकड़ियों से लदे एक ट्रक को रोका गया था। 




Source link

Related Articles

Back to top button