Thursday, February 29, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

Poonam Pandey trolled on fake death news now she defends and saying kill me crucify me

Poonam Pandey Fake Death News:: एक्ट्रेस पूनम पांडे पिछले कुछ दिनों से काफी चर्चा में हैं. 2 फरवरी को पूनम पांडे के निधन की खबर सामने आई थी लेकिन 3 फरवरी की सुबह ही पूनम ने अपने जिंदा होने की खबर अपने ही इंस्टाग्राम पर दी. पूनम पांडे उस दिन के बाद से बुरी तरह ट्रोल हो गईं. लोगों ने उन्हें खूब बुरा-भला कहा लेकिन काफी समय बाद पूनम पांडे ने एक के बाद एक पोस्ट शेयर करने शुरू कर दिए. उन्होंने इंस्टाग्राम स्टोरीज में अपने बचाव में एक के बाद एक पोस्ट लिखे हैं.

पूनम पांडे का कहना है कि उन्होंने सर्वाइकल कैंसर के प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए अपने मरने की झूठी खबर फैलाई थी. लेकिन लोगों को ये तरीका गलत लगा तो उन्होंने पूनम पांडे को ट्रोल कर दिया. पूनम पांडे अब अपने बचाव में एक के बाद एक पोस्ट कर रही हैं जिसमें उन्होंने यहां तक लिख दिया कि मुझे मार दो, सूली पर चढ़ा दो. चलिए आपको इसके बारे में विस्तार से बताते हैं.

पूनम पांडे किया ट्रोलर्स से अपना बचाव

सर्वाइकल कैंसर के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए अपनी ‘मौत’ की फर्जी खबर फैलाने को लेकर पूनम पांडे आलोचना से घिर गई हैं. पूनम पांडे ने एक बार फिर इंस्टाग्राम पर पोस्ट करते हुए उसमें लिखा, ‘मुझे मार डालो, मुझे सूली पर चढ़ा दो, मुझसे नफरत करो, लेकिन जिसे तुम प्यार करते हो उसे बचाओ.’

Poonam Pandey Fake Death News: 'मुझे मार डालो, मुझे सूली पर चढ़ा दो...' सोशल मीडिया पर मिल रहे हेट पर बोलीं पूनम पांडे

श्बांग नाम की मार्केटिंग एजेंसी जो पूनम पांडे के साथ मिलकर इस अभियान को चला रही थी. उन्होंने भी माफी मांगते हुए कहा, ‘हां  हम हाउटरफ्लाई के साथ मिलकर सर्वाइकल कैंसर के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए पूनम पांडे की पहल में शामिल थे.’ उन्होंने आगे कहा, ‘शुरुआत करने के लिए हम दिल से माफी मांगना चाहेंगे. विशेष रूप से उन लोगों के प्रति जो किसी भी प्रकार के कैंसर की कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं या उनके प्रियजन कर रहे हैं.’


हाउटरफ्लाई एक लाइफस्टाइल और एंटरटेनमेंट पोर्टल है, जो मिलेनियल वुमन को लक्षित करता है. नाटकीय घोषणा को समझाते हुए, जिसे कई लोगों ने सस्ते पीआर स्टंट के रूप में देखा, पूनम पांडे की एजेंसी ने ये बयान जारी किया है. उसमें लिखा गया है, “हमारा एक्शन एकमात्र मिशन था कि सर्वाइकल कैंसर के बारे में जागरुकता बढ़ाना. साल 2022 में भारत में 1,23,907 सर्वाइकल कैंसर के केस और 77,348 मौतें दर्ज की गई. ब्रेस्ट कैंसर के बाद सर्वाइकल कैंसर भारत में मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं को प्रभावित करने वाली दूसरी सबसे ज्यादा घातक बीमारी है. आप में से बहुत से लोग अनजान हो सकते हैं, लेकिन, पूनम की अपनी मां ने कैंसर से बहादुरी से लड़ाई लड़ी है.’

यह दावा करते हुए निष्कर्ष निकाला गया कि इस देश के इतिहास में यह पहली बार हुआ है जब ‘सर्वाइकल कैंसर’ शब्द 1,000 से ज्यादा ट्रेंडिंग में है. यह दोहराते हुए कि इस पहल के कारण जिन लोगों को ठेस पहुंची है, उनसे पूनम पांडे की एजेंसी ने भी माफी मांगी है. एजेंसी ने कहा, ‘हम समझते हैं कि हमारे तरीकों ने अप्रोच के बारे में बहस छेड़ दी होगी. हमें किसी भी परेशानी के लिए खेद है, लेकिन अगर इस कदम के बाद बहुत जरूरी जागरुकता फैलती है और मौतों को रोका जा सकता है, तो ये इसका वास्तविक प्रभाव होगा.’

यह भी पढ़ें: रोंगटे खड़े कर देने वाली ये 8 वेब सीरीज एक बार जरूर देखें, इस ओटीटी पर हैं उपलब्ध

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here