Saturday, May 18, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

WFI Election : डब्ल्यूएफआई चुनाव में बीजेपी खेल सकती है ओपी धनखड़ पर दांव, विवादों पर लगाम लगाना है लक्ष्य

प्रदीप धनखड़/झज्जर. भारतीय कुश्ती संघ के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर महिला पहलवानों के यौन शोषण के आरोपों के बाद ये मुद्दा देशभर में गूंज रहा है . दिल्ली के जंतर-मंतर पर अंतरराष्ट्रीय पहलवान बजरंग पूनिया,साक्षी मलिक और विनेश फोगाट बृजभूषण शरण सिंह की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरने पर बैठे है. इन पहलवानों को विपक्षी दलों के साथ हरियाणा,पंजाब,यूपी के किसान संगठनों और खाप पंचायतों का समर्थन भी मिला है .बृजभूषण शरण सिंह पर दिल्ली पुलिस की कार्रवाई ना होने से आहत महिला पहलवानों विनेश और साक्षी मलिक ने अपने मेडल गंगा में बहाने तक का एलान कर दिया था . हालांकि किसान नेता नरेश टिकैत के मनाने पर पहलवानों ने अपना फैसला वापस ले लिया.

दिल्ली पुलिस ने यौन शोषण मामले में अपनी चार्जशीट कोर्ट में सौंप दी है. इस बीच घोषणा हो गई कि 6 जुलाई को भारतीय कुश्ती संघ का चुनाव होगा. इस चुनाव पर देशभर की नज़रें टिकी हैं. बड़ी वजह है पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर लगे यौन शोषण के आरोप और पहलवानों की मांग.अन्य मांगों के साथ एक मांग ये भी शामिल है कि बृजभूषण शरण सिंह ये चुनाव नहीं लड़े. पहले यह चुनाव 4 जुलाई को होने थे, लेकिन इसके बाद दो दिन आगे टाल दिया गया है .

धनखड़ की मुस्कुराहट के पीछे छुपा है राज ?
अब सवाल है कि भारतीय कुश्ती संघ का अगला अध्यक्ष कौन होगा. कई नामों पर चर्चा भी चल रही हैं. वहीं,सूत्रों के मुताबिक हरियाणा बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ओपी धनखड़ भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष के चुनाव लड़ने की चर्चाएं तेज़ हैं. कहा जा रहा है कि पार्टी की तरफ से धनखड़ का नाम आगे रखा गया है. हालांकि जब इस बारे में धनखड़ से सवाल किया गया, उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा कि जितना आपको पता है उतनी ही मुझे भी जानकारी है, मैंने भी अखबारों में ही पढ़ा है. अब धनखड़ की मुस्कुराहट के पीछे क्या छुपा है, ये तो वही जानते हैं. औपचारिक तौर पर फिलहाल पार्टी की तरफ से कुछ भी सामने नहीं आया है. इतना जरुर है कि बृजभूषण शरण सिंह को फिर से इस पद बीजेपी भी नहीं देखना चाहेगी.

अटकलों का बाजार गर्म
पहलवानों के आरोप भले अभी साबित नहीं हुए हों, नाबालिग पहलवान ने भी अपना बयान पलट दिया है. इसके बाद ये केस पहले से कमज़ोर ज़रुर हुआ है लेकिन पहलवान और किसान संगठन,खाप पंचायतें बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं. बीजेपी भी ये अच्छे से समझती है